Writing Workshop – लेखन कार्यशाला: मौलिक लेखन की दिक्कतें?

Writing WorkshopSamvidhan Live : Original Writing Workshop

कई साथी कभी फेसबुक कमेंट बॉक्स में, तो कभी इनबॉक्स में, कभी फोन पर, तो कभी व्हाट्सएप मैसेज में यह सुझाव देते हैं कि फलां विषय पर लिखिये, इस मुद्दे को उठाइये, उसकी खबर लीजिए। इन सुझावों से बेहद आत्मीयता महसूस होती है, और उम्मीद के साथ अपेक्षाओं का बोझ भी महसूस होता है। कई साथी उलाहना देते हैं और बीते हुए वक्त के हिस्सों पर लिखने के लिए प्रेरित करते हैं।

बदले में मैं सवाल दाग देता हूं कि आप ही क्यों नहीं लिखते हैं। हर विषय पर लिखने के लिए मुझे न तो कोई सरकारी पैसा मिल रहा है, न ही जन सहयोग से चंदा करके कोई अलख जगा रहा हूं। बस अपनी जिम्मेदारी का थोड़ा बहुत हिस्सा खर्च कर लेता हूं। इसलिए सभी की उम्मीदों पर खरा उतरना संभव नहीं है, और न ही ऐसी किसी कोशिश में मेरी दिलचस्पी है। मैं अपनी सीमित क्षमताओं के साथ लिख, बोल, पढ़, सुन रहा हूं। जितना संभव है, उतना ही। शायद उससे भी कम।

बहरहाल, फिर भी एक विचार है। क्या ही बेहतर हो कि सभी साथी एक साथ एक ही विषय पर न लिखकर सुबह से शाम तक के लिए अपने अपने हिस्से का लिखना पढ़ना चुन लें। दिक्कत ये हो रही है कि कोई एक मुद्दा आता है और सभी उस पर भिड़ जाते हैं। ऐसे में कई दीगर जरूरी मुद्दे पीछे छूट जाते हैं।

यह भी पढ़ें:  वेंटीलेटर और ऑक्सीजन की कमी से हो रही मौतें

अब यहां एक दिक्कत यह है कि ज्यादातर सुझाव देने साथी लिखने, बोलने से सायास दूरी बनाए हुए हैं। उनमें झिझक है, हालांकि निजी बातचीत में ये साथी कमाल की राय देते हैं। बस भाषा थोड़ी प्रांजल नहीं है, टूटी फूटी है। विचारों में भी अभी पूरी तरह से पैनापन नहीं है, लेकिन वे अपनी क्षमताओं का महज 10 प्रतिशत ही समझ सके हैं। उनमें कमाल की योग्यता है, बस वे दूर खड़े देख रहे हैं। वे बस दूसरों के पोस्ट को इधर से उधर फारवर्ड कर रहे हैं। यह भी जरूरी काम है, लेकिन मौलिक लेखन के लिए भी जरूरी है कि कुछ कवायद की जाए।

बस इसीलिए हम एक मौलिक लेखन कार्यशाला (Writing Workshop) कर रहे हैं। यह कार्यशाला (Writing Workshop) सहयोग आधारित होगी। यानी इसमें सभी प्र​शिक्षु होंगे और सभी विशेषज्ञ। क्योंकि विशेषज्ञ तो सभी हैं, कोई किसी एक हिस्से में माहिर है, तो दूसरे की योग्यता कुछ जुदा हैं। तो हम सभी एक दूसरे से सीखेंगे।

यह भी पढ़ें:  Social Media: भारत सरकार ने फेसबुक से मांगा 40,300 यूजर्स का डेटा

यह कार्यशाला (Writing Workshop) फिलहाल आनलाइन होगी। यह पूरी तरह से निशुल्क होगी। इसमें लिखने के बारे में शुरुआती बातचीत की जाएगी। ताकि मुद्दों पर लिखने वाले बढ़ें।
इस कार्यशाला (Writing Workshop) में हम बात करेंगे—
1. मुद्दों के चयन
2. लिखने से पहले की तैयारी
3. शब्दों के चयन
4. फेसबुक, ब्लॉग, वेबसाइट, अखबार आदि के लिए लिखने के तरीकों के बारे में
और संभव हुआ तो
5. तुरत लेखन को प्रसारित करने के टूल्स पर….

अगर आपकी दिलचस्पी इस तरह की लेखन कार्यशाला (Writing Workshop) में है। जहां आप जो लिख रहे हैं, उसे और बेहतर कैसे करें, इस पर बात करना चाहते हैं, तो नीचे दिए गए गूगल फार्म को भरकर 28 फरवरी के पहले भेज दें।

नीचे दिए गए फार्म को भरकर आप कार्यशाला (Writing Workshop) के लिए अपना रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं।

कार्यशाला (Writing Workshop) का दिन, समय और फोरम आदि आगे दिलचस्पी लेने वाले साथियों को बता दिया जाएगा।

टीम संविधान लाइव की ओर से
सचिन श्रीवास्तव