कोरोना की वैक्सीन और वैक्सीन से बुखार का डर

Lock-down 2021कोरोना की वैक्सीन और वैक्सीन से बुखार का डर

अमरीन

भोपाल समेत देश के तमाम हिस्सों में कोरोना के खात्मे के लिए वैक्सीन लगाई जा रही है। इसके बाद भी लोग सुरक्षित नहीं हैं। कम से कम जमीनी हालात तो यही बता रहे हैं। वैक्सीन लगवाने के बाद कभी किसी को बुखार आ जाता है, तो कभी सर्दी जुकाम तो कभी सांस लेने में दिक्कत आती है। दिक्कत यह है कि वैक्सीन लगवाने के बाद आने वाली इन परेशानियों के इलाज के लिए समुचित व्यवस्था नहीं की गई है। इन्हीं हालात को बयां करती संविधान लाइव टीम की साथी अमरीन की यह रिपोर्ट…

– संविधान लाइव

भोपाल। ऐशबाग के बोगदा पुल इलाके में रहने वाले शफीक की उम्र 45 वर्ष है। मुस्लिम समुदाय से आने वाले शफीक ने सभी के कहने पर हाल ही में कोरोना से बचने के लिए वैक्सीन लगवाई। इसके बाद शफीक की तबियत बिगड़ने लगी। उन्हें लगा कि साधारण बुखार है। ठीक हो जाएगा। शफीक ने सुना था कि वैक्सीन लगवाने के बाद हल्का बुखार आता है और उसके बाद सब ठीक हो जाता है। बस यही सोच कर उन्होंने डॉक्टर को नहीं दिखाया। वे बुखार ठीक होने का इंतजार करते रहे।

यह भी पढ़ें:  कोरोना कब बड़ा अजाब था जो मुआ लॉकडाउन भी लगा दिया!

इसी इंतजार में दो दिन बीत गए। दो दिन बाद बुखार ज्यादा बढ़ गया। बुखार बढ़ने पर शफीक डॉक्टर को दिखाने गए। दवा लेकर बाहर निकले तो हल्का सा चक्कर आया। आंखों के आगे अंधेरा सा छाने लगा। नतीजतन वहीं पर गिर गए। आसपास के लोगों ने नब्ज टटोली तो पता चला कि शफीक की मौत हो गई है।

आस पास के लोगों से इस बारे में बात की तो उनका कहना है कि वैक्सीन लगवाने के बाद भी कोई सुरक्षित नहीं है। लोगों का यह भी कहना है कि वैक्सीन से और ज्यादा तादाद में मौतें हो रही हैं।

वैक्सीन से जुड़ी दूसरी घटना युसुफ से जुड़ी है। यूसुफ को वैक्सीन लगवाये एक महीना हो गया था। शुरू में तो बुखार या कुछ अन्य सिम्टम्स नहीं आए। उसके बाद से उन्हें सर्दी जुकाम और सांस लेने में दिक्कत होने लगी। दवा करने पर भी मर्ज ठीक नहीं हुआ। यूसुफ का कहना है कि जब उनका सर्दी जुकाम ठीक नहीं हुआ तो उन्होंने दोबारा डॉक्टर को दिखाया। पूछा कि ये मेरी तबियत ठीक क्यों नहीं हो रही है। क्या मेरी तबियत वैक्सीन लगवाने से खराब हुई है?

यह भी पढ़ें:  वेंटीलेटर और ऑक्सीजन की कमी से हो रही मौतें

इस पर डॉक्टर ने मना किया कि ऐसा कुछ नहीं है। वैक्सीन तो हमें कोरोना से बचाने के लिए बनाई गई है। उससे हमको खतरा नहीं है, बल्कि इससे हम कोरोना से सुरक्षित हैं।

इस भरोसे के बाद युसुफ दवा लेकर घर चले गए, लेकिन उनकी तबियत में अभी तक कोई सुधार नहीं आया है। सांस की दिक्कत अभी थोड़ी बहुत ठीक है, लेकिन सर्दी जुकाम अभी भी है।

ऐसी कई घटनाएं हैं, जो वैक्सीन लेने वाले लोगों के साथ हो रही हैं। इस तरह से कई भ्रम और अफवाहें भी फैल रही हैं। इसके कारण वैक्सीन को लेकर लोगों में डर बैठ गया है।