Taliban

Javed Akhtar: तालिबान और तालिबानी सोच के लिए मेरे पास निंदा और तिरस्कार के अलावा कुछ नहीं

तालिबान—आरएसएस तुलना विवाद और खुद पर लगे आरोपों पर जावेद अख्तर (Javed Akhtar) की सार्वजनिक प्रतिक्रिया

बीते 3 सितंबर को मशहूर गीतकार जावेद अख्तर (Javed Akhtar) ने एनडीटीवी को दिए एक वीडियो इंटरव्यू में तालिबान और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की तुलना करते हुए तालिबान, आरएसएस, मौजूदा राजनीति और सामाजिक तानेबाने पर खुलकर बातचीत की। जावेद अख्तर यूं भी अपने उदारवादी विचारों के लिए जाने जाते हैं और जब तक सामाजिक मसलों पर अपनी राय बेबाकी से रखते हैं। इस कारण वे हिंदु और मुस्लिम दोनों समुदायों के कट्टरपंथियों के निशाने पर रहते हैं। इस बार भी ऐसा ही हुआ।

इंटरव्यू सामने आते ही भाजपा, आरएसएस समेत कई हिंदुवादी संगठनों ने जावेद अख्तर के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। साथ ही महाराष्ट्र की सत्ताधारी पार्टी शिवसेना ने अपने भी अपने मुखपत्र ‘सामना’ के संपादकीय में आरएसस का समर्थन किया। भाजपा नेता राम कदम ने बयान के लिए जावेद अख्तर (Javed Akhtar) से माफी की मांग करते हुए कहा कि जब तक वे माफी नहीं मांगते हैं तब तक देश में उनकी फिल्मों को चलने नहीं देंगे।

इसके अलावा ट्विटर, फेसबुक समेत विभिन्न फोरम पर भी इस इंटरव्यू की खासी चर्चा रही और जावेद अख्तर के पक्ष और विपक्ष में कई पोस्ट सामने आए।

इस मसले पर 9 सितंबर 2021 को जावेद अख्तर (Javed Akhtar) ने अपना एक लंबा बयान जारी किया है। इस बयान में उन्होंने हालिया विवाद में उनके उपर लगे आरोपों का सिलसिलेवार जवाब दिया है। यह बयान हम संविधान लाइव के पाठकों के लिए बिना किसी कांट—छांट के प्रकाशित कर रहे हैं।


Taliban

तालिबान और हमारे चरमपंथियों के बीच अंतर सिर्फ़ इतना हैं कि तालिबान ने अफ़ग़ानिस्तान में अपना एकछत्र शासन जमा लिया है, और भारत में हमारे चरमपंथियों की भारतीय संविधान-विरोधी ‘तालिबानी’ सोच की ज़बरदस्त मुखालिफ़त होती रहती है।

3 सितम्बर 2021 को जब मैंने एनडीटीवी को इंटरव्यू दिया था तो मुझे मालूम नहीं था कि मेरी बातों पर इस तरह की तीखी प्रतिक्रिया पैदा होगी। एक तरफ़ कुछ लोगों ने बड़े कड़े शब्दों में अपनी नाराजगी और ग़ुस्से का इज़हार किया है, और दूसरी तरफ़ देश के हर कोने और इलाके से लोगों ने मेरी बात की तस्दीक की है, मेरे नज़रिए से सहमति जताई है। मैं उन सब का शुक्रिया अदा करना चाहूँगा, पर उससे पहले मैं उन आरोपों और अभियोगों का जवाब देना चाहूंगा जिन्हें मेरे इंटरव्यू से नफ़रत करने वालों ने मुझ पर लगाया है। क्योंकि इलज़ाम लगाने वाले हर एक इन्सान को अलग-अलग जवाब देना संभव नहीं है, मैं यहाँ एक समवेत जवाब दे रहा हूँ।

मुस्लिम उग्रपंथियों के खिलाफ न बोलने का इल्जाम और जावेद अख्तर की प्रतिक्रिया

मेरे आलोचकों का इलज़ाम है कि मैं हिन्दू दक्षिणपंथियों की आलोचना तो करता हूँ, मगर कभी मुस्लिम उग्रपंथियों के ख़िलाफ़ नहीं बोलता। उनका अभियोग है कि मैं तीन-तलाक़, पर्दे-हिजाब, और मुस्लमानों की दूसरे पिछड़ेपन के दस्तूरों के बारे में कभी कुछ नहीं बोलता। मुझे कोई आश्चर्य नहीं कि इन लोगों को मेरे बरसों से किये इन कामों का ज़रा भी इल्म नहीं है। आखिरकार मैं इतना महत्वपूर्ण व्यक्ति तो नहीं हूँ कि सब को मेरे क्रिया-कलापों की ख़बर हो जो मैं लगातार करता रहा हूँ।

दरअसल सचाई यह है कि पिछले दो दशकों में दो बार मुझे पुलिस की सुरक्षा दी गयी क्योंकि मुझे मुस्लिम चरमपंथियों की ओर से जान की धमकियाँ दी जा रहीं थीं। पहली बार यह तब हुआ जब मैंने ‘तीन तलाक़’ का पुरजोर विरोध तब किया था, जब यह विषय राष्ट्र के सामने उछला भी नहीं था। किन्तु उसी समय से मैं, ‘मुस्लिम्स फ़ॉर सेक्युलर डेमोक्रेसी’ नाम के संगठन के साथ भारत के बहुत से शहरों – जैसे हैदराबाद, इलाहाबाद, कानपुर, अलीगढ – जाकर इस पुरातनपंथी रूढ़ि के ख़िलाफ़ बोल रहा था। इसका नतीजा यह हुआ कि मुझे जान की धमकियां मिलने लगीं, और मुंबई के एक अखबार ने उन धमकियों अपने एक अंक में साफ़-साफ़ दोहराया भी। उन दिनों के मुंबई के पुलिस-कमिश्नर श्री ए. एन. रॉय ने उस अख़बार के संपादक और प्रकाशक को तलब करके यह कहा कि अब अगर मुझ पर कोई हिंसक हमला हुआ, तो उसका ज़िम्मेदार मुंबई पुलिस उस अख़बार को ही मानेगी।

सन 2010 में, एक टीवी चैनल पर एक जाने-माने मुस्लिम मौलाना कल्बे जवाद से मेरा एक वाद-विवाद हिजाब-बुर्क़े की सड़ी-गली परंपरा के बारे में हुआ। उसके बाद वो मौलाना साहब मुझसे इतने नाराज़ हो गए कि कुछ ही दिनों में लखनऊ में मेरे पुतले जलाए जाने लगे और मुझे मौत की धमकियां मिलने लगीं। उस वक़्त फिर से मुझे मुंबई पुलिस ने सुरक्षा कवच दिया। इसलिए मुझ पर यह इलज़ाम कि मैं चरमपंथी मुसलमानों के ख़िलाफ़ खड़ा नहीं होता, सरासर ग़लत है।

यह भी पढ़ें:  Podcast - Episode 5: Nanhe Azaad Bol - Expressions by Children

तालिबान को महिमामंडित करने का आरोप और जावेद अख्तर की प्रतिक्रिया

कुछ ने मुझ पर तालिबान को महिमामंडित करने का आरोप लगाया है। इससे अधिक झूठ और बेतुकी कोई बात हो ही नहीं सकती। तालिबान और तालिबानी सोच के लिए मेरे पास निंदा और तिरस्कार के अलावा कुछ और है ही नहीं। मेरे एनडीटीवी साक्षात्कार से एक सप्ताह पूर्व, 24 अगस्त को मैंने अपने ट्वीट में लिखा था, यह चौंकाने वाली बात है कि मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के दो सदस्यों ने अफ़ग़ानिस्तान में बर्बर तालिबान के काबिज़ होने पर खुशी जताई है। हालांकि संगठन ने खुद को इस बयान से दूर रखा है, किन्तु इतना काफ़ी नहीं है, और यह ज़रूरी हैं की मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड इस विषय पर अपना दृष्टिकोण साफ़ करे।

मैं यहाँ अपनी बात को दोहरा रहा हूँ, क्योंकि मैं नहीं चाहता कि हिंदू दक्षिणपंथी लोग इस झूठ के परदे के पीछे छिपें कि मैं मुस्लिम संप्रदाय की दकियानूसी पिछड़ी प्रथाओं के विरोध में खड़ा नहीं होता।

हिन्दुओं और हिंदू-धर्म की अवमानना करने का अभियोग और जावेद अख्तर की प्रतिक्रिया

उन्होंने मुझ पर हिन्दुओं और हिंदू-धर्म की अवमानना करने का अभियोग भी लगाया है। इस आरोप में रत्ती भर भी सच नहीं है। सच यह है कि अपने इंटरव्यू में मैंने साफ़ कहा है कि पूरी दुनिया में, हिंदू जनसमुदाय सबसे सज्जन और सहिष्णु बहुसंख्यक समाज है। मैंने इस बात को बार-बार दोहराया है कि हिन्दुस्तान कभी अफ़ग़ानिस्तान जैसा नहीं बन सकता क्योंकि भारतीय लोग स्वभाव से ही अतिवादी नहीं हैं, और मध्यमार्ग और उदारता हमारी नस-नस में समाई है। आपको हैरानी होगी कि मेरे यह मानने और कहने के बावजूद क्यों कुछ लोग मुझे नाराज़ हैं? इसका उत्तर यह हैं कि मैंने साफ़ शब्दों में हर प्रकार के दक्षिणपंथी-अतिवादियों, कट्टरपंथियों और धर्मांध लोगों की भर्त्सना की है, फिर वो चाहे जिस धर्म-मज़हब-पंथ के हों। मैं जोर देकर कहा है कि धार्मिक-कट्टरवादी सोच चाहे जिस रंग की हो उसकी मानसिकता एक ही होती है।

हाँ, मैंने अपने साक्षात्कार में संघ और उसके सहायक संगठनों के प्रति अपनी शंका ज़ाहिर की है। मैं हर उस सोच के खिलाफ हूँ जो लोगों को धर्म-जाति-पंथ के आधार पर बांटती हो, और मैं हर उस उस व्यक्ति के साथ हूँ जो इस प्रकार के भेदभाव के खिलाफ़ हो। शायद इसीलिए सन 2018 में देश के सबसे पूज्य-मान्य मंदिरों में से एक, काशी के ‘संकट मोचन’ हनुमान मंदिर ने मुझे आमंत्रिक कर मुझे ‘शांति दूत’ की उपाधि दी और मुझ जैसे ‘नास्तिक’ को मंदिर में व्याख्यान देने का दुर्लभ सौभाग्य भी दिया।

तालिबानी सोच और हिंदु चरमपंथियों में समानता पर जावेद अख्तर की राय

मेरे विरोधी इस बात से भी उत्तेजित हैं कि मुझे तालिबानी सोच और हिंदू-चरमपंथियों के बीच बहुत समानता दीखती है। तथ्य यह है कि दोनों की सोच में समानता है ही। तालिबान ने एक मज़हब पर आधारित इस्लामी सरकार बना ली है, और हिंदू दक्षिणपंथी भी एक धर्माधारित हिन्दू राष्ट्र बनाना चाहते हैं। तालिबान औरतों के हक़ और स्वतंत्रता को ख़तम कर उन्हें हाशिये पर लाना चाहता है, और हिन्दू चरमपंथियों को भी औरतों की आज़ादी पसंद नहीं है। उत्तर प्रदेश, गुजरात, कर्नाटक में युवक-युवतियों को सिर्फ इसलिए मारा-पीटा गया है कि वो साथ-साथ किसी पार्क या रेस्टोरेंट में देखे गए हैं। मुस्लिम और हिन्दू दोनों चरमपंथियों को यह हज़म नहीं होता कि कोई लडकी अपनी पसन्द से किसी और धर्म के आदमी से शादी कर ले। हाल में ही एक बड़े नामी दक्षिणपंथी नेता ने बयान दिया कि महिलाएं स्वतंत्र होने और अपने फैसले खुद लेने लायक नहीं है। तालिबान की तरह ही हिंदू चरमपंथी भी अपनी ‘आस्था’ को किसी भी मनुष्य के बनाए नियम-कानून और संविधान से ऊपर मानते हैं।

तालिबान किसी भी अल्पसंख्यक समुदाय के अस्तित्व और हक़ों को नहीं मानता। हिंदू चरमपंथी भी अपने देश के अल्पसंख्यकों के प्रति जो भावना रखते हैं उसका पता उनके बयानों, नारों, और जब मौका मिले तो उनके कर्मों से जग-ज़ाहिर होता ही रहता है।

तालिबान और हमारे चरमपंथियों के बीच अंतर सिर्फ़ इतना हैं कि तालिबान ने अफ़ग़ानिस्तान में अपना एकछत्र शासन जमा लिया है, और भारत में हमारे चरमपंथियों की भारतीय संविधान-विरोधी ‘तालिबानी’ सोच की ज़बरदस्त मुखालिफ़त होती रहती है। हमारे संविधान में धर्म, जाति, पंथ और लिंग के आधार पर भेद की जगह नहीं है, और हमारे देश में न्यायालय और मीडिया जैसी संस्थाएं अभी जिंदा हैं। बड़ा अन्तर सिर्फ इतना है कि तालिबान अपने मकसद में सफल हो गया है, और हिन्दू दक्षिणपंथी वहाँ पहुँचने के प्रयास में लगे हैं। खुशकिस्मती से यह भारत है, जहाँ के नागरिक इन प्रयासों को असफल करके ही दम लेंगे।

यह भी पढ़ें:  Protest: सद्भाव, अमन और भाईचारे की अपील उर्फ चंद चेहरों को ताकते गांधी

गोलवलकर की नाज़ियों की तारीफ पर जावेद अख्तर का बयान

कुछ लोग मेरी इस बात से भी नाखुश हैं कि मैंने अपने इंटरव्यू में ज़िक्र किया है कि श्री एम. एस. गोलवलकर ने नाज़ियों और अल्पसंख्यकों से निपटने के नाज़ी तरीकों का भी तारीफ की है। श्री गोलवलकर 1940 से 1973 तक संघ के मुखिया थे, जिन्होंने दो पुस्तकें भी लिखीं थी, “वी ऑर अवर नेशनहुड डिफाइंड” और “अ बंच ऑफ थॉट्स”। यह दोनों किताबें इन्टरनेट पर आसानी से उपलब्ध हैं। पिछले कुछ समय से उनके शिष्यों ने पहली किताब के बारे में यह कहना शुरू कर दिया है कि यह गुरुजी की किताब नहीं है। उन्हें ऐसा इसलिए करना पड़ा क्योंकि बड़े से बड़ा धर्मांध व्यक्ति भी उस किताब में लिखी बातों का आज समर्थन नहीं कर पायेगा। उनका कहना है कि ग़लती से गुरूजी का नाम उस किताब से जुड़ गया। हालांकि कई वर्षों से उसके बहुत संस्करण छपते रहे और तब कभी किसी ने कोई बात नहीं की।

“वी ऑर अवर नेशनहुड डिफाइंड” सन 1939 में प्रकाशित हुई थी और स्वयं गुरूजी सन 1973 तक संसार में विद्यमान थे, और 34 वर्षों में उन्होंने कभी इस पुस्तक का खंडन नहीं किया। इसका अर्थ हुआ कि उनके चेलों द्वारा अब इस किताब का खंडन केवल राजनीतिक मजबूरी हैं। इस किताब से एक उद्धरण देखिये:

“वी ऑर अवर नेशनहुड डिफाइंड” (पृष्ट 34-35; पृष्ठ 47-48)

अपनी नस्ल और संस्कृति को विशुद्ध रखने के लिए जर्मनी नें विधर्मी यहूदियों का सफ़ाया करके दुनियाँ को अचंभित कर दिया। अपनी नस्लप्रजाति पर गर्व का सर्वश्रेष्ठ उदाहरण है जर्मनी। जर्मनी ने यह भी सिद्ध कर दिया कि मूल से ही विपरीत नस्लों और संस्कृतियों का साथ रहना और एक होना कितना असंभव है। इस सबक से हम भारतीय लोग कितना कुछ सीख कर लाभान्वित हो सकते हैं….

भारत में रह रहे विदेशी नस्ल के लोगों (क्रिस्तानों और मुसलमानों) को या तो हिन्दू सभ्यता, भाषा और हिन्दू धर्म को सीखना और उसका आदर करना पड़ेगा, और यह भी कि हिन्दू जाति और संस्कृति की वो इज्ज़त करें, अर्थात वो हिन्दू राष्ट्र को मानेंऔर अपनी पृथक पहचान को भूल कर वो हिंदू प्रजाति में समाहित हो जाएँ और तभी इस देश में रहें। उन्हें किसी प्रकार के अलग विशेषाधिकारों की बात तो छोडिये, किसी तरह के नागरिक अधिकार भी नहीं मिलने चाहिए।

“अ बंच ऑफ थॉट्स” (पृष्ठ 148-164, और 237-238, भाग 2, अध्याय षष्ठम)

आज भी सरकार में उच्च पदों पर आसीन मुसलमान और दूसरे भी राष्ट्रविरोधी सम्मेलनों में खुले आम बात करते हैं….

….कई प्रमुख ईसाई मिशनरी पादरियों ने साफ कहा है कि उनका उद्देश्य इस देश को “प्रभु येशु का क्रिस्तान साम्राज्य बनाने का है….”

दोनों उद्धरण अपने आप में स्पष्ट हैं।

महाराष्ट्र की अघाड़ी सरकार पर तालिबान होने का आरोप और जावेद अख्तर की प्रतिक्रिया

बड़े मज़े की बात है कि मुझसे नाराज़ हिन्दू दक्षिणपंथियों के एक वरिष्ठ नेता ने स्वयं महाराष्ट्र विकास अघाड़ी की सरकार को ‘तालिबानी’ कहा है। महाराष्ट्र का शासन बड़े सुचारू ढंग से चलाने वाली सरकार में शामिल तीन पार्टियों में से किसी का मैं सदस्य नहीं हूँ। किन्तु इतना स्पष्ट है कि आज महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री श्री उद्धव ठाकरे की लोकप्रियता और सुशासन की तुलना बंगाल में ममता बनर्जी और तमिलनाडु में स्टालिन से की जाती है। उनके सबसे कठोर आलोचक भी उनपर किसी प्रकार के भेदभाव या अन्याय का आरोप नहीं लगा सकते। कैसे कोई श्री उद्धव ठाकरे की सरकार को ‘तालिबानी’ कह सकता है, यह मेरी समझ से परे है।

जावेद अख्तर
मुंबई, 9 सितम्बर 2021