Premchand: अपने समय को देखने की काबिलियत देते हैं प्रेमचंद

संविधान लाइव में रविवार को हुई प्रेमचंद (Premchand) पर परिचर्चा बीते रविवार को भारतीय महिला फेडरेशन, संविधान लाइव और आल इंडिया यूथ फेडरेशन की ओर से उपन्यास सम्राट प्रेमचंद (Premchand) … Read More

Habib Jalib: आवाम का शायर

सचिन श्रीवास्तव हबीब जालिब 12 मार्च 1993 को हमारे बीच नहीं रहे थे, लेकिन वे ऐसे शायर हैं, जिन्हें याद करने के लिए तारीखों की जरूरत नहीं। हबीब उन चंद … Read More

Farmers Protest: 1956-57 और 1965 में आंदोलनों के समक्ष झुकी थी केंद्र सरकार

एल. एस. हरदेनिया भोपाल। आजादी के बाद दो महाआंदोलन हुए जिनके सामने तत्कालीन केंद्रीय सरकारों को झुकना पड़ा। इनमें से पहला आंदोलन 1956-57 में हुआ था और दूसरा 1965 में। पहले आंदोलन का संबंध … Read More

पाती : बिछुड़ चुके दोस्त के नाम

वे जिन्होंने दोस्त बनाए हैं, और दोस्तियों को जीया है, जानते हैं एक मुकम्मल दोस्ती के अंत के बाद भी अंतहीन विस्तार में दोस्त की हरकतें नमक की तरह सांस … Read More