ससुराल में ताने और अत्याचार सहने के बावजूद रहने की मजबूरी

ससुराल में ताने और अत्याचार सहने के बावजूद रहने की मजबूरी

भोपाल। भोपाल की रहने वाली शाइना कि शादी 24 साल की उम्र में 35 साल के एक शख्स से हो गई थी। 3 बेटियों की मां शाइना ससुराल में अपने पति, सास, ननद आदि के साथ रहती है।

शाइना बताती है कि उसे ससुराल वाले बहुत परेशान करते हैं। उसे हमेशा ताना मारते हैं। उनकी 3 बेटियां हैं, उन्हें लड़का नहीं हुआ है। ससुराल वाले बोलते हैं कि तुम मनहूस हो। तुम्हें लड़का नहीं होगा। हम तुम्हें घर भेज देंगे। ससुराल वाले बोलते हैं कि जबसे तुम हमारे घर आयी हो, तबसे हमारे घर मे परेशानियां ही परेशानियां आ रही हैं।

शाइना ने बताया कि ससुराल वाले 15—16 घंटे काम करवाते हैं। सबका काम भी उन्हीं को करना पड़ता है। उनकी सास विकलांग हैं, उन्हें शाइना ही संभालती हैं, उनकी देखरेख करती हैं। घर में उनकी एक शादीशुदा ननद और उनके पति भी साथ ही रहते हैं। उनका पूरा काम भी शाइना ही करती हैं। यानी घर में कुल 10 लोग शाइना, उनके पति, 3 बेटियां, सास, ननद, ननद के पति और दो छोटी ननद का काम वे अकेले करती हैं। इसमें खाना पकाने से लेकर घर के झाडू, पौंछा, बर्तन आदि सभी काम शामिल हैं।

यह भी पढ़ें:  Mobile Vendors: मोबाइल कारीगरों के लिए अजाब बना लॉकडाउन

शाइना बताती हैं कि इतना काम करने के बावजूद ससुराल वाले उनको परेशान करते हैं। एक दिन शाइना से सब्जी का सालन जल गया था, तो उनकी ननद उनसे लड़ने लगी।और छोटी वाली ननद ने उन्हें मारा भी था। ससुराल वाले हमेशा दहेज का भी बोलते हैं कि तुम्हारे माँ बाप ने कुछ भी नहीं दिया और तुम सर पर बोझ बन कर आ गईं। तुम कम थीं जो 3 लड़कियां पैदा कर लीं।

उन्होंने बताया कि वो अगर बीमार पड़ जाती हैं, तो दवा भी नहीं दिलाते। शाइना ने बताया अगर वो अपने घर पर ससुराल वालों को बातें बताती हूँ। तो उनके घर वाले बोलते हैं कि तुम्हारी भी कुछ गलती होगी। शाइना के भाई ससुराल बात करने जाते हैं तो उनके ससुराल वाले बोलते हैं इसको कुछ भी काम नहीं आता और सही से काम नहीं करती। मुँह चलाती है।

यह भी पढ़ें:  शादी, ससुराल और मेरा सपना

शाइना के ससुराल वाले उनके भाई से अच्छी बातें करते हैं और भाई भी ससुराल वालों के तरफ बोलते हैं। भाई भी उनका साथ नहीं देते। शाइना के भाई के आगे उनके माँ बाप की भी नहीं चलती है। शाइना ने कहा वो सिर्फ उनकी लड़कियों की खातिर वहाँ रह रही हैं।

फरहा
16 अप्रैल 2021