अंतिम संस्कार के लिए भी लाइन लगा रहे हैं सरकार!

अंतिम संस्कार के लिए भी लाइन लगा रहे हैं सरकार!

सायरा खान

किसी भी धर्म में अंतिम संस्कार को लेकर लोग बहुत संवेदनशील और उदार रहते हैं। कोशिश यही रहती है कि सब कुछ आसानी से बिना रुकावट के हो जाए। कोरोना से हालात इस कदर बुरे हो गए हैं कि अंतिम संस्कार के लिए भी इंतजार करना पड़ रहा है। लोग इससे बहुत परेशान और आहत हैं।

राहुल नगर के एक व्यक्ति ने बताया कि उनकी दादी की मृत्यु हो गई है। वह कोरोना संक्रमित थीं। उन्हें सांस लेने में तकलीफ हो रही थी। पिछले सात दिनों से वह हमीदिया अस्पताल में भर्ती थीं, लेकिन उनकी हालत में कोई सुधार नहीं आया। रात में पता चला कि उनकी मौत हो गई है।

यह भी पढ़ें:  Should the Community Kitchens Continue?

सारा परिवार यह सुनकर दुख से भर गया। जब हम अपनी दादी का शव लेने अस्पताल पहुंचे तो हमसे कहा गया कि एंबुलेंस लेकर आएगी। तुम श्मशान घाट पहुंच जाओ। हम श्मशान पहुंचे तो वहां का नजारा कुछ और ही था। शवों की लाइन लगी थी। नंबर आने पर ही दाह संस्कार किया जा रहा था। हम इंतजार कर रहे थे कि एंबुलेंस कब आएगी। दो घंटे बीत जाने के बाद एंबुलेंस वहां पर आई। तब हमने नंबर लगाया। आठ घंटे इंतजार करने के बाद हमारा नंबर आया। उसके बाद हम अपनी दादी का अंतिम संस्कार कर पाए।

उन्होंने बताया कि श्मशान में लाशों के ढेर लगे हुए हैं। दूसरी कोई व्यवस्था नहीं बनाई गई है कि इस कोरोना काल में लोगों का अंतिम संस्कार तुरंत किया जा सके। आज जिस तरह का माहौल बना हुआ है, उससे लोगों के मन में दहशत है। प्रशासन सिर्फ यह बता रहा है कि हमने सुविधाएं उपलब्ध कराई हैं, लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और है। चारों तरफ सिर्फ चिताएं जल रही हैं। यह मंजर लोगों के मन को दहला रहा है।