मशहूर नाटककार एडवर्ड अल्बी का निधन: नहीं रहे अमरीका के सबसे मशहूर नाटककार

सचिन श्रीवास्तव
अमरीका के सबसे मशहूर नाटककारों में शुमार एडवर्ड अल्बी का स्थानीय समय के मुताबिक, शुक्रवार रात करीब आठ बजे (भारतीय समयानुसार शनिवार सुबह 6.30 बजे) निधन हो गया। 88 वर्षीय एडवर्ड न्यूयॉर्क में रहते थे। उन्होंने अपने घर पर अंतिम सांस ली।

पुलित्जर पुरस्कार से नवाजे जा चुके अल्बी को “हू इज अफ्रेड ऑफ वर्जीनिया वुल्फ?” आदि मशहूर नाटकों के लिए जाना जाता है। 1962 में पहली बार मंच पर आए नाटक वर्जीनिया वुल्फ के देश-विदेश में कई शो हुए। 1966 में इस पर आधारित एक फिल्म भी बनी जिसमें रिचर्ड बर्टन और एलिजाबेथ टेलर ने अभिनय किया था। इस फिल्म से अल्बी को अंतरराष्ट्रीय ख्याति मिली। द जू स्टोरी (1958) और द सेंडबॉक्स (१९५९) उनके अन्य मशहूर नाटक हैं। हाल ही में वे अपने प्रयोगधर्मी नाटक द गोट, ऑर हू इज सिल्विया के लिए चर्चित रहे। उन्होंने 30 से ज्यादा अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त नाटक लिखे।

यह भी पढ़ें:  17 सितंबर 2016 का राजस्थान पत्रिका का सोशल मीडिया फ्लैप

तीन पुल्तिजर पुरस्कार
एडवर्ड को ए डेलिकेट बेलेंस (1967), सीस्केप (1975) और थ्री टाल वुमन (1994) के लिए पुल्तिजर पुरस्कार से नवाजा गया। 1963 में हू इज अफ्रेड ऑफ वर्जीनिया वुल्फ को भी ज्यूरी ने पुरस्कार के लिए चुना था, लेकिन सलाहकार समिति ने इसे बेहद अश्लील मानते हुए पुरस्कार देने से रोक दिया। उस साल किसी को ड्रामा पुरस्कार नहीं मिला था।

धनी परिवार ने लिया था गोद
12 मार्च 1928 को जन्में एडवर्ड के जैविक मां-बाप अज्ञात हैं। उन्हें पैदाइश के कुछ हफ्तों बाद ही वर्जीनिया के धनी व्यापारी एडवर्ड फ्रेंकलिन के बेटे रीड ए अल्बी ने गोद ले लिया था। रीड कई सिनेमाघरों के मालिक थे, इसलिए बचपन से ही एडवर्ड को अभिनय और नाटकों का माहौल मिला।

समलैंगिक संबंधों के लिए चर्चित
अल्बी खुले तौर पर मानते थे कि वे समलैंगिक हैं, लेकिन उन्होंने कभी अपने आपको समलैंगिक लेखक नहीं माना। उन्होंने बताया कि वे करीब 12 साल के थे, तब उन्हें अहसास हुआ कि वे समलैंगिक हैं।  2007 में एक लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार ग्रहण करते वक्त उन्होंने कहा था कि एक लेखक समलैंगिक हो सकता है, लेकिन उसे अपनी निजी पसंद के पार देखना आना चाहिए। वे अक्सर कहते थे, मैं समलैंगिक लेखक नहीं हूं, मैं एक लेखक हूं, जो समलैंगिक है। एक स्कल्पचर आर्टिस्ट जोनाथन थॉमस के साथ एडवर्ड के लंबे समय तक संबंध रहे। 2 मई 2005 को थॉमस का निधन हो गया था।

यह भी पढ़ें:  शिक्षकों की कमी से जूझ रहे उच्च शिक्षा संस्थान

स्कूलों से निकाले गए
एडवर्ड की शुरुआती पढ़ाई कई स्कूलों में हुई। बताया जाता है कि समलैंगिक आदतों के कारण ही उन्हें स्कूलों से निकाला जाता था और चूंकि वे एक प्रभावशाली परिवार के बच्चे थे, इसलिए स्कूल अन्य कारणों से उन्हें दूसरे स्कूल रैफर कर देते थे।