हो जाएं तैयार… होशियार! आ रहा है पोकेमॉन

16 जुलाई 2016 को राजस्थान पत्रिका में प्रकाशित
सचिन श्रीवास्तव
मोबाइल पर खेला जाने वाला एक आसान सा गेम पूरी दुनिया के लिए बड़ा खतरा बनता जा रहा है। यह खतरा है पोकेमॉन गो। इसे लॉन्च करने वाली कंपनी खुद डिस्क्लेमर देती है कि अगर पोकेमॉन खेलते हुए किसी भी तरह का संपत्ति नुकसान, चोट लगने या मौत का हादसा होता है, तो उसके लिए नाइनटिक जिम्मेदार नहीं होगी। 6 जुलाई को अमरीका, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में लॉन्च हुए और इस गेम ने 15 जुलाई को जर्मनी और ब्रिटेन के युवाओं को भी अपना दीवाना बना दिया है। साथ ही इन देशों की मुसीबतें भी बढ़ा दी हैं। अब इसका अलगा निशाना भारत और चीन हैं, जो स्मार्टफोन का बड़ा बाजार हैं। देश में आने से पहले ही भारतीय युवाओं के बीच इसकी दीवानगी बढ़ गई है। ट्विटर पर यह बीते एक सप्ताह से ट्रेंड कर रहा है। गूगल पर इसे हर रोज 12 लाख से ज्यादा बार सर्च किया जा रहा है। दुनियाभर को अपनी दीवानगी से खतरे में डाल चुके इस गेम पर एक नजर…
क्या है पोकेमॉन गो
जापानी कंपनी नाइनटेंडो ने 6 जुलाई को अमरीका में पोकेमॉन सीरीज का नया गेम पोकेमॉन गो लॉन्च किया। यह 1996 में शुरू हुई पोकेमॉन सीरीज का सबसे नया संस्करण है। यह आईओएस एंड्राइड वाले स्मार्टफोन पर खेला जाता है। स्मार्टफोन के गूगल मैप पोकेमॉन के क्रिएचर दिखाई देते हैं, जिन्हें गेम प्लेयर को बॉल थ्रो कर पकडऩा होता है। इससे पोको कैंडी या स्टारडस्ट मिलती हैं और गेम में आगे बढ़ा जाता है। कुल 151 क्रिएचर को बॉल हिट करने के बाद गेमर पोके मास्टर बन जाता है। अगले लेवल पर चुनौतियां अलग हैं। पोके क्रिएचर की तीन श्रेणियां हैं, ग्रीन, यलो और रेड। ग्रीन सबसे आसान और रेड सबसे मुश्किल।
पोकेमॉन की मुसीबत
दो दिनों में ही यह गेम सबसे ज्यादा डाउनलोडिंग का रिकॉर्ड तोड़ चुका था। लेकिन इसकी सफलता खतरे का एक पक्ष है। दरअसल यह सड़क पर खेला जाने वाला गेम है। इससे अमरीका, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड की सड़कों पर अफरातफरी का माहौल बन गया। सिडनी में रहवासियों ने पोकेमॉन स्टॉप पर गेमर्स पर पानी से भरे बलून फेंके तो अमरीका के माइकल बाकर एक सुनसान रोड पर लुटेरों का शिकार बने। 15 वर्षीय एटुमन डिस्रोथ गेम खेलते हुए दुर्घटना का शिकार हो गई।
खतरे कैसे कैसे
ट्रेस पासिंग: कई ऐतिहासिक इमारतें, पार्क और धार्मिक स्थल पोकेमॉन स्टॉप हैं। कई घरों में भी लोग पोके क्रिएचर को ढूंढ रहे हैं। यह एक बड़ी समस्या बन गई है।
लुटेरों का खतरा: पोके प्लेयर क्रिएचर की तलाश में कई सुनसान जगहों पर भी पहुंच रहे हैं। इससे लुटेरों का शिकार बनने का खतरा रहता है।
दुर्घटनाएं: सड़कों पर मोबाइल लेकर चलने वाले और कार चलाते हुए गेम खेलने के दौरान कई दुर्घटनाएं हो चुकी हैं।
भारत में दस्तक
भारत में करीब 7 करोड़ स्मार्टफोन यूजर्स हैं। अमरीका, ऑस्ट्रेलिया आदि में सफल लॉन्चिंग के बाद नाइनटेंडो की नजर भारत पर है। हालांकि कंपनी के वाइस प्रेसिडेंट क्रिस क्रेमर ने आगामी योजनाओं से इनकार किया है। लेकिन विशेषज्ञ मानते हैं कि भारत और चीन जैसे बड़े बाजारों को कंपनी ज्यादा दिनों तक नजरअंदाज नहीं कर सकेगी। जाहिर है भारत में यह एक बड़ा खतरा बन सकता है।
स्मार्टफोन पर पोकेमॉन
4.5 करोड़ डेली यूजर्स हैं दुनिया भर में पोकेमॉन के
10.8 प्रतिशत अमेरिका
15.1 प्रतिशत ऑस्ट्रेलिया
16 प्रतिशत न्यूजीलैंड
13 प्रतिशत ब्रिटेन
11 प्रतिशत जर्मनी

खतरा और बड़ा: मार्च 2017 में नाइनटेंडो चार और मैप बेस्ड गेम लॉन्च करने वाली है। उस वक्त खतरा और बड़ा होगा, क्योंकि यह चारों गेम अलग-अलग जोन की रुचियों को ध्यान में रखकर तैयार किए जा रहे हैं।
हेल्थ के लिए बेहतर: कंपनी का कहना है कि पोकेमॉन गेम हेल्थ के लिए अच्छा है। यह मानसिक श्रम तो कराता ही है। साथ ही क्रिएचर को ढूंढने के लिए गेमर लगातार वॉक करता है, जो आसान व्यामाम है।
दीवानगी के कुछ किस्से
न्यूजीलैंड के 24 वर्षीय टॉम कैरी ने अपनी नौकरी छोड़ दी है। अब वे फुल टाइम पोके प्लेयर हैं। उन्होंने 151 में से 90 क्रिएचर को हिट किया है। वे कहते हैं, मैं छह साल से नौकरी कर रहा था और मुझे एक ब्रेक की दरकार थी। पोकेमॉन का शुक्रिया कि उसने यह मौका दिया। 
कैसे हो रही डाउनलोडिंग
यह गेम अभी दुनिया के पांच देशों में ही लॉन्च हुआ है, लेकिन इसे दुनिया के अन्य हिस्सों में भी डाउनलोड किया जा रहा है। इसके लिए लोग अपने आईपी एड्रेस को पोके कंट्री का दिखाते हैं। इसके लिए विभिन्न साइट्स की मदद ली जा रही है, जो आपके स्मार्टफोन की लोकेशन को दूसरे देश में फॉरवर्ड कर देती हैं। 
यूजर्स की मुश्किलें
-पोकेएप से मोबाइल की बैटरी बेहद जल्दी खत्म होती है। अन्य गेम एप के मुकाबले लगभग दोगुनी तेजी से।
-10 मिनिट में फोन बेहद गर्म हो जाता है।
– खेलने के लिए इंटरनेट कनेक्टिविटी जरूरी।
-53 एमबी की भारी भरकम एकेपी फाइल
फैक्ट 
-गूगल प्ले स्टोर पर क्लेश रॉयल को पछाड़ दिया है पोकेमॉन गो ने। महज दो दिनों में टॉप पर पहुंच गया था यह गेम। सीआर ने टॉप पर पहुंचने में लगाए थे पांच दिन।
-रियो डि जेनेरियो के मेयर एडवर्डो पीस चाहते हैं कि ओलंपिक से पहले यह गेम ब्राजील में लॉन्च हो जाए।
यह भी पढ़ें:  किसानों की कर्जमाफी, सियासत, शगूफा या जरूरत?