वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग आईआईटी दिल्ली देश का सर्वश्रेष्ठ शैक्षणिक संस्थान

27 अगस्त 2016 को राजस्थान पत्रिका में प्रकाशित
सचिन श्रीवास्तव
दुनिया की 1000 सर्वश्रेष्ठ संस्थानों में 16 भारतीय
सेंटर फॉर वर्ल्ड  यूनिवर्सिटी रैंकिंग की ताजा सूची में 16 भारतीय संस्थान शामिल किए गए हैं। सीडब्ल्यूयूआर ने शिक्षा की गुणवत्ता, रोजगार, शिक्षकों की योग्यता, प्रकाशन, प्रभाव, सम्मान, बोर्ड की भूमिका और पेटेंट के आधार पर दुनिया के सर्वश्रेष्ठ 1000 शिक्षण संस्थानों का चयन किया है। 
किस देश के कितने संस्थान
अमरीका 224
चीन 90
जापान 74
ब्रिटेन 65
जर्मनी 56
फ्रांस 48
इटली 48
स्पेन 41
दक्षिण कोरिया 36
कनाडा 32
ऑस्ट्रेलिया 27
ताइवान 21
ब्राजील 17
भारत 16
इनके अलावा नीदरलैंड्स के 13, ऑस्ट्रिया के 12, स्वीडन के 11, बेल्जियम और तुर्की के 10-10, फिनलैंड, पोलेंड और स्विटजरलैंड के 9-9, ईरान व आयरलैंड के 8-8, ग्रीक और इस्राइल 7-7, हांगकांग, हंगरी, न्यूजीलैंड और पुर्तगाल के 6-6, डेनमार्क, नार्वे, रूस और दक्षिण अफ्रीका के 5-5, चिले, चेक गणराज्य और मिस्र के 4-4, अर्जेंटीना, थाइलैंड, मलेशिया और सऊदी अरब के 3-3, कोलंबिया, मैक्सिको, रोमानिया, सिंगापुर और स्लोवेनिया के 2-2 और बुल्गारिया, क्रोएशिया, साइप्रस, इस्टोनिया, आइसलैंड, लेबनान, लिथूनिया, पाकिस्तान, पुर्तो रिको, सर्बिया, स्लोवाकिया गणराज्य, युगांडा, यूएई और उरुग्वे के 1-1 शैक्षणिक संस्थान इस सूची में शामिल हैं।
——————-
दुनिया की पांच बेहतरीन यूनिवर्सिटी
हार्वर्ड: आठ में से सात पैमानों पर अव्वल। पेटेंट के मामले में तीसरे नंबर पर। 100 प्रतिशत अंक हासिल करने वाली एकमात्र यूनिवर्सिटी।
स्टेनफोर्ड: 98.25 अंकों के साथ दूसरे स्थान पर। रोजगार और शिक्षकों की गुणवत्ता के मामले में दूसरे स्थान पर। जबकि अन्य पैमानों पर टॉप टेन में शामिल।
एमआईटी: पेटेंट के मामले में अव्वल। रोजगार और प्रकाशन के मामले में टॉप टेन में भी शामिल नहीं। अन्य पैमानों पर टॉप 5 में शामिल। कुल अंक 97.12
कैम्ब्रिज: पेटेंट के मामले में 45वें स्थान पर, लेकिन अन्य सभी पैमानों पर टॉप 15 संस्थानों में शामिल। कुल अंक 96.13।
ऑक्सफोर्ड: कुल अंक 95. 39। सभी पैमानों पर 6 से 19वें स्थान पर। शैक्षणिक गुणवत्ता, रोजगार और शिक्षकों के स्तर के मामले में 2015 के स्थान पर काबिज। अन्य मापदंडों में पिछड़ी।
————————-
5 सर्वश्रेष्ठ भारतीय संस्थान
संस्थान                           दुनिया में स्थान पिछले साल की रैंकिंग
आईआईटी-दिल्ली            354                  341
दिल्ली विश्वविद्यालय            419                  379
भारतीय विज्ञान संस्थान    471                  448
पंजाब विश्वविद्यालय             511                  491
टाटा मूलभूत अनुसंधान संस्थान 584                  601
———————————
ये नवरत्न भी टॉप-1000 में
आईआईटी-मद्रास, आईआईटी-रूडकी, आईआईटी खडग़पुर, बीएचयू, आईआईटी-बॉम्बे, जवाहर लाल नेहरू सेंटर फॉर एडवांस साइंटिफिक रिसर्च, आईआईटी-कानपुर, एम्स दिल्ली, जाधवपुर यूनिवर्सिटी, कलकत्ता यूनिवर्सिटी और हैदराबाद यूनिवर्सिटी भी दुनिया की टॉप-1000 यूनिवर्सिटी में स्थान बनाने में सफल रही हैं।
————————–
ज्यादातर पैमानों पर पिछड़े भारतीय संस्थान
शैक्षणिक गुणवत्ता: पढ़ाई के मामले में देश में कलकत्ता यूनिवर्सिटी सबसे अव्वल है। शैक्षणिक गुणवत्ता के लिहाज से यह दुनिया में 150वें स्थान पर रही। हालांकि 2015 में कलकत्ता यूनिवर्सिटी 140वें स्थान पर थी।
रोजगार: छात्रों को रोजगार के मामले में आईआईटी दिल्ली देश में अव्वल और दुनिया में 64वें स्थान पर है। 
शिक्षकों की योग्यता: दुनिया में 146वां स्थान हासिल कर इस मामले में जवाहरलाल नेहरू सेंटर फॉर एडवांस साइंटिफिक रिसर्च देश में अव्वल है। बीते साल संस्थान इस मामले में 218वें स्थान पर था। जबकि बीते साल 209 रैंकिंग के साथ कलकत्ता यूनिवर्सिटी इस पैमाने पर अव्वल थी।
प्रकाशन: सर्वाधिक जर्नल और अन्य प्रकाशनों के साथ भारतीय विज्ञान परिषद इस मामले में देश में अव्वल और दुनिया में 327वें स्थान पर रही। बीते साल संस्थान को प्रकाशन के मामले में 315वां स्थान मिला था।
प्रभाव: दुनिया में 422वीं रैंकिंग के साथ प्रभाव के मामले में टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च देश में अव्वल स्थान रखता है। बीते साल संस्थान 450वें स्थान पर था। 
प्रतिष्ठा: पंजाब यूनिवर्सिटी, टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च और आईआईटी-रूडकी को देश में सम्मान और विभिन्न फोरमों पर मिली प्रतिष्ठा के मामले में अव्वल स्थान मिला है। यह तीनों संयुक्त रूप से विश्व में 324वीं रैंकिंग पर हैं। बीते साल पंजाब यूनिवर्सिटी और टाटा इंस्टीट्यूट इस पैमाने पर हअव्वल थे।
बोर्ड की भूमिका: भारतीय विज्ञान परिषद के बोर्ड की भूमिका देश में बेहतरीन है। यह दुनिया में 470वें स्थान पर है। बीते साल इस मामले में आईआईएस 447वें स्थान पर था। 
पेटेंट: इस पैमाने पर भारतीय विज्ञान परिषद दुनिया में 303वें स्थान पर और देश में अव्वल है। बीते साल आईआईटी-बॉम्बे देश में अव्वल था और दुनिया में यह 176वें स्थान पर था। इस साल आईआईटी-बॉम्बे को टेंट के मामले में 315वीं रैंकिंग मिली है। 
यह भी पढ़ें:  ए. एम. नाईक : दान करेंगे अपनी संपत्ति का 75 प्रतिशत हिस्सा