कम्यूनिज्म गॉन विद कॉमरेड स्तालिन

एक इंसान पैदा होने और मौत के आगोश में जाने से पहले अपने आसपास के लोगों पर प्रभाव डालता है। अच्छा–बुरा, कम या ज्यादा। कुछ लोग वक्त की सरहद को … Read More

दुनिया की बीमारियों का हल हिंदुस्तानी तहजीब

-सचिन श्रीवास्तव ‘वो रुलाकर हंस ना पाया देर तक, जब मैं रोकर मुस्कुराया देर तक’। इस शेर को हम सभी ने अपने-अपने ढंग से इस्तेमाल किया होगा। शायरी के शौकीन … Read More

पाती : बिछुड़ चुके दोस्त के नाम

वे जिन्होंने दोस्त बनाए हैं, और दोस्तियों को जीया है, जानते हैं एक मुकम्मल दोस्ती के अंत के बाद भी अंतहीन विस्तार में दोस्त की हरकतें नमक की तरह सांस … Read More

जगजीत की खामोशी

15 दिन तक जिंदगी से नजरें चुराकर मौत के आगोश में बैठे जगजीत सिंह ने आखिरकार इस दुनिया को अलविदा कह दिया। इस महान गायक की मौत के चंद घंटों … Read More