लॉकडाउनः अहम है कि जरूरतमंदों की मदद की जाए

लॉकडाउनः अहम है कि जरूरतमंदों की मदद की जाए

शोएब खान

हम जिस दुनिया में रहते हैं। वहां तमाम तरह के वायरस हैं। कुछ वायरस हलके हैं और कुछ जानलेवा। अहम सवाल यह है कि अगर इलाज की बेहतर सुविधा नहीं मिलती है तो मरीज मामूली बीमारी में भी अपनी जान गंवा देता है। कोरोना संक्रमण में भी यही हो रहा है। मरीज को मामूली ऑक्सीजन तक न मिल पाने की वजह से मौत हो जा रही है। जिन्हें समय से इलाज मिल जा रहा है उनकी जान भी बच रही है।

मामूली सुविधाएं और सही इलाज न मिल पाने की वजह ने बहुत सारे लोगों ने अपनों को खो दिया है। आज भी बहुत से ऐसे लोग हैं, जो अपनों को बचाने के लिए हर मुमकिन कोशिश कर रहे हैं। पहली और दूसरी लहर के बीच में सिस्टम बेहतर करने का सरकार के पास पूरा मौका था, लेकिन इस पर ध्यान नहीं दिया गया।

यह भी पढ़ें:  घर की महिलाओं से लॉकडाउन ने छीना चैन-सुकून

इन सबके बीच सबसे अहम है कि जरूरतमंद लोगों की मदद की जाए। बहुत सारे लोग हैं भोजन, ऑक्सीजन से लेकर दवा और वाहन देकर भी जरूरतमंदों की मदद कर रहे हैं। भोपाल में भी बहुत सारे लोग दिन-रात निःस्वार्थ भाव से सेवा में लगे हैं। खास बात यह है कि जबकि कोरोना जानलेवा साबित हो रहा है, इसके बावजूद वह एक योद्धा की तरह मैदान में डटे हुए हैं। ऐसे लोगों को सलाम।