ई-कॉमर्स कंपनियों की बिग सेल : त्यौहारी खरीदारी में मशगूल भारतीय ई-बाजार

3 अक्टूबर 2016 को राजस्थान पत्रिका में प्रकाशित

सचिन श्रीवास्तव

मौजूदा माहौल में आतंकवाद बहस का मुद्दा है और मौटे तौर पर हम संक्रमण काल से गुजर रहे हैं। त्यौहारों का दौर भी शुरू हो चुका है और भारतीय समाज की पारंपरिक उत्सवधर्मिता पर पड़ोसी देश से रिश्तों का असर भी साफ दिखाई दे रहा है। इसके बावजूद बाजार में रौनक है। माहौल बनाने और खरीदारों को उत्पादों की आकर्षित करने में माहिर बाजार ने इस बार 37 करोड़ के भारतीय इंटरनेट समुदाय को बिग बिलियन डे का ऑफर दिया। सस्ती चीजों के आकर्षण से खरीदार खिंचे और नतीजतन पहले एक घंटे में ही फ्लिपकार्ट पर 5 लाख उत्पादों की बिक्री हुई। पहले पांच मिनट में सबसे ज्यादा खरीदार कंपनी की वेबसाइट पर ऑनलाइन थे। स्नैपडील और अमेजन भी इस बिक्री अभियान का हिस्सा हैं। उम्मीद की जा रही है कि तीनों कंपनियों की कुल बिक्री एक दिन की बिक्री के तमाम रिकॉर्ड ध्वस्त कर देगी।

फ्लिपकार्ट: मुसीबतों के बीच खुशनुमां खबर
बिग बिलियन डे सेल: 2 से 6 अक्टूबर तक
मई 2016 में अंतरराष्ट्रीय फर्म मार्गन स्टेनले ने फ्लिपकार्ट का बाजार मूल्य 9.39 बिलियन डॉलर (629 अरब रुपए) बताया था, जो बीते साल 15 बिलियन डॉलर (1000 अरब रुपए) था। कंपनी की वेबसाइट पर ट्रैफिक कम हुआ है और लगातार बाजार में अपनी हिस्सेदारी खो रही है। ऐसे में बिग बिलियन डे फ्लिपकार्ट के लिए उम्मीदों का आखिरी मंच था। राहत की बात है कि भारतीय खरीदारों ने पहले दिन कंपनी को अच्छा रिस्पांस दिया है।
ऑफर: उत्पादों पर 10 से 40 प्रतिशत का डिस्काउंट है। होम अप्लाइंसेज पर ज्यादा जोर।
टाई-अप: जेट एयरवेज जैसे जाइंट को भी सहयोगी बनाया। कुल 40 से ज्यादा करार किए हैं पांच दिनों के लिए।
उम्मीद: फ्लिपकार्ट इस सेल में 3000 करोड़ रुपए की बिक्री की उम्मीद कर रही है।

यह भी पढ़ें:  2019 में रियल्टी बाजार: 286 अरब रुपए का निवेश होगा देश के रियल्टी क्षेत्र में

2000 करोड़ रुपए की सेल हुई थी साल 2015 में फ्लिपकार्ट के बिग बिलियन डे पर।
3 गुना ज्यादा रेवेन्यू मिला फ्लिपकार्ट की सिस्टर कंसर्न मिंत्रा को 2015 की सेल के मुकाबले।

स्नैपडील: बाजार में पैर पसारने का मौका
अनबॉक्स दीवाली सेल: 2 से 6 अक्टूबर तक
हाल ही में स्नैपडील के अपने सबसे बड़े प्रतिद्वंद्वी फ्लिपकार्ट और अमेजन में मर्जर की अफवाहें उड़ीं। कर्मचारियों की बगावत और बाजार में लगातार खरीदारों की कमी झेल रही स्नैपडील के लिए यह दीवाली बड़ा मौका है। एड प्रोमो से कंपनी ने ध्यान खींचा है। सेल में इलेक्ट्रिानिक उत्पादों पर फोकस किया है। कई तरह के कूपन भी दिए जा रहे हैं। सेल के लिए खास लैंडिंग पेज बनाया है। पहले दिन उम्मीद से बेहतर रिजल्ट की घोषणा की गई, लेकिन रेवेन्यू के बारे में ठोस जानकारी नहीं दी।
ऑफर: आईफोन के अलावा अन्य मोबाइल के लिए 30 प्रतिशत तक छूट। फर्नीचर पर 50 प्रतिशत से ज्यादा का डिस्काउंट।
टाई-अप: सिटी बैंक कार्ड यूजर्स को फ्लैट डिस्काउंट। कोका कोला और इंटेक्स से भी डील। उम्मीद: 1000 करोड़ रुपए के आसपास तक पहुंच सकती है बिक्री।
1300 करोड़ रुपए का घाटा हुआ था स्नैपडील को इस साल की शुरुआत में।
2 नंबर पर है भारतीय ई-कॉमर्स बाजार में, फ्लिपकार्ट के बाद।

यह भी पढ़ें:  सेवानिवृत्ति योजना: पेंशन के दायरे से बाहर ज्यादातर कामकाजी आबादी

अमेजन इंडिया: प्रतिद्वंद्वी से आगे रहने की रणनीति
ग्रेट इंडियन फेस्टिव सेल: 1 से 5 अक्टूबर तक
बाजार पूंजी के लिहाज से बीते साल अमेजन ने जब वालमार्ट को पीछे छोड़ा था, तो बाजार पर बारीक नजर रखने वाले चौंके नहीं थे। दिलचस्प यह है कि तब भारत के बाजार में अमेजन की हिस्सेदारी बहुत कम थी। अमेजन के लिए अभी भी भारतीय बाजार एक पहली ही है। त्यौहारी सीजन में एक दिन पहले अपनी सेल शुरू कर अमेजन ने अपने चिरपरिचित अंदाज में जगह कब्जाने की रणनीति बनाई है। सेल में मोबाइल और लैपटॉप पर ज्यादा जोर।
ऑफर: 20 से 30 प्रतिशत तक का औसत डिस्काउंट दिया जा रहा है। 70 प्रतिशत डिस्काउंट भी उपलब्ध। प्राइम यूजर्स के लिए आधा घंटे पहले शुरू किया ऑफर।
टाई-अप: एचडीएफसी कार्ड धारकों को एडिशनल कैशबैक। अन्य कंपनियों से भी करार।
उम्मीद: बिक्री से ज्यादा भरोसा कायम करने और नए ग्राहक लाने पर जोर। 5 से 10 प्रतिशत हिस्सेदारी बढऩे के आसार
7000 करोड़ रुपए की बाजार पूंजी है अमेजन की
2.68 लाख कर्मचारी काम करते हैं कंपनी में।